Monday, 29 March 2010

काश....

काश के मैं कुछ कर पाती,
सारे दुखों को हर पाती।
दर्द ना होता महसूस कभी,
इतना आगे बढ़ पाती।
हँसना कैसा रोना कैसा,
पत्थर हो ऐसी जड़ पाती।
हार हार के जीत मैं जाती,
खुद से ऐसे लड़ पाती।

24 comments:

  1. बहुत गहरे तक वेदना व्याप्त है.

    ReplyDelete
  2. तुमको ही कुछ करना है,
    खुद ही सब दुख हरना है..

    दर्द तो होना लाज़िम है,
    खुशियों को गर जनना है..

    हँसना भी है, रोना भी..
    पत्थर सा क्या बनना है..

    हार-जीत तो होती रहेगी,
    खुद को पहले समझना है..

    ReplyDelete
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति......
    कितना सुन्दर होता,
    गर सब अच्छा होता!

    न आखें नम होती,
    न दिल में कोई दर्द होता!

    ReplyDelete
  4. "किसी भी कृति में लेखक का व्यक्तित्व झलकता है...इस काव्य में भी कुछ कर गुज़रने माद्दा दिखता है ..."
    amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. हार हार के जीत मैं जाती,
    खुद से ऐसे लड़ पाती।
    तथास्तु, ऐसा ही होगा
    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  6. वाह...बढ़िया...
    ठान लो तो होगा
    सब
    दुख सदा रहे हैं
    कब

    ReplyDelete
  7. काश को हकीकत में बदलने का नाम है जिदंग़ी।

    ReplyDelete
  8. काश के मैं कुछ कर पाती,
    सारे दुखों को हर पाती।
    दर्द ना होता महसूस कभी,
    इतना आगे बढ़ पाती।
    हँसना कैसा रोना कैसा,
    पत्थर हो ऐसी जड़ पाती।
    हार हार के जीत मैं जाती,
    खुद से ऐसे लड़ पाती।


    आप बेहतर लिख रहीं हैं .आपकी हर पोस्ट यह निशानदेही करती है कि आप एक जागरूक और प्रतिबद्ध रचनाकार हैं जिसे रोज़ रोज़ क्षरित होती इंसानियत उद्वेलित कर देती है.वरना ब्लॉग-जगत में आज हर कहीं फ़ासीवाद परवरिश पाता दिखाई देता है.
    हम साथी दिनों से ऐसे अग्रीग्रटर की तलाश में थे.जहां सिर्फ हमख्याल और हमज़बाँ लोग शामिल हों.तो आज यह मंच बन गया.इसका पता है http://hamzabaan.feedcluster.com/

    ReplyDelete
  9. Kaash mai bhi aisi ban pati!

    ReplyDelete
  10. bahut sundar rachana photo bhi acha laga hame

    http://kavyawani.blogspot.com/

    shekhar kumawat

    ReplyDelete
  11. Ab aap kavita me bhi aa gayiN, hamaare liye kuchh chhodeNgi ki nahiN :)

    ReplyDelete
  12. MashaAllah kam alfaaz aur maane lajawaab behtareen likha hai ...alfaz nahi aapke tareef ke liye ....aap hamare blogs pe aaye aur aate rahe ...khushi hogi ...

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत रचना है...

    ReplyDelete
  14. bahut bahut sundar..... :)

    ReplyDelete
  15. काश को हकीकत में बदलने का नाम है जिदंग़ी।

    ReplyDelete
  16. हँसना कैसा रोना कैसा,
    पत्थर हो ऐसी जड़ पाती।

    beautiful!!

    ReplyDelete
  17. Aurat itni abla bhi nahi hai madam, jitna aap logon ki kavitayen unhe dikhati hai....thoda positive bhi sochiye,aur in aansuon se bahar aakar kuchh likhiye.. har aurat dukhi nahi hai.. dekhne ka farq hai..koi aadha bhara glass kehta hai..koi aadha khali.

    ReplyDelete
  18. Maafi chahta hun agar maine aapko thes pahunchai..ya aapki baat samajh nhi paya.. mera maqsad sirf itna tha ki hum log aksar auraton par hone wale zulm ki baat to karte hain..lekin unki zindagi ke khushnuma pehluon ko nazarandaaz kar dete hain.. waise mene aapke blog k kai post padhe hain.. aap bahut achchha likhti hain..

    ReplyDelete
  19. ZINDAGI ZINDAGI BHAR KHUSHIYON KO,
    MUQADDAR ME DHUNDTI HAI....
    JIS TARAH KOI BUDHIYA AANKHON PAR LAGA CHASHMA,
    GHAR BHAR ME DHUNDTI HAI..
    DUNIYA KO DUNIYA KA HAQ DENE WALI AURAT..
    APNA HAQ TU DUSRON KI NAZAR ME DHUNDTI HAI.

    ReplyDelete
  20. जीवन में इक काश की कसक कही न कही सबको रहती है..............
    सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  21. the assumption in second sher is

    aage badhne se dard kam ho jayega/ aage badhne se hum dard se beniyaaz ho jayenge...

    I wish this was true!!!

    ReplyDelete
  22. बेहद खूबसूरत............

    ReplyDelete
  23. Jeevan chalte rehna hai/ Kya khona kya pana hai
    Jalte ansoo ya khiti muskan/Akhir sabko mar jana hai.Song bhi hai na Jo mil gaya usi ko mukkadar samaj liya----
    Krishan Bihari Noor sb. ne kaha hai
    Beniyaz dukh sukh se reh ke je na paunga
    Sukh meri tammna hai dukh nera mukkdar hai
    Mein jiske haat mei ek phool deke aya tha
    Usi ke haat ka patthar meri talesh mein hai

    ReplyDelete